…क्योंकि वो भी कभी बेटी थी!

…क्योंकि वो भी कभी बेटी थी!

“ममा, मेरे को एक ट्रिप पे जाना है, आपकी परमिशन तो है?” “हां-हां ठीक है, लेकिन… ” “…लेकिन क्या ममा कोई प्रॉब्लम है? तो नहीं जाते हैं!” “अरे वो बड़ी वाली दीदी तुमसे मिलने आ रही हैं.” “ठीक है ममा…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
जरूरत है, जरूरत है – सख्त जरूरत है मिसेज क्लीन की!

जरूरत है, जरूरत है – सख्त जरूरत है मिसेज क्लीन की!

घरवालों ने अपनी तरफ से भरोसा दिलाने की कोशिश की – “चलो ठीक है, मान कर चलो कि लड़की बिलकुल गोरी ही होगी.” सुनते ही वो ऐसे रिएक्ट किया कि सभी एक दूसरे का मुंह देखते रह गये. लोग बिलकुल…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
पेट और दिमाग का रिश्ता अच्छा होना चाहिये

पेट और दिमाग का रिश्ता अच्छा होना चाहिये

सिर्फ फायदा देखकर ही खाना थोड़े ही खाते हैं,’ दादी ने रीता से कहा, ‘खाना सिर्फ पेट के लिए नहीं, दिमाग के लिए भी खाया जाता है. हेल्दी खाने से पेट ठीक रहता है और टेस्टी से दिमाग. बस इतना…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
गुना – एक लव स्टोरी

गुना – एक लव स्टोरी

“बोल उदेश, सच में ये क्या तमाशा है? ये किस धोखे और बदले की बात कर रही है?” अब तक जो सवाल गुना उदेश से पूछ रही थी, वही सवाल तनुश का भी है. गुना को लगता है कि तनुश…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
देशद्रोही और उनसे मोर्चा लेते मोतीराम

देशद्रोही और उनसे मोर्चा लेते मोतीराम

पहले मोतीराम को सिर्फ अपना और माला के हाथ मलने होते थे – बाद में इस इवेंट में दोनों बच्चे भी शामिल हो गये. माला को पहले तो अजीब लगा लेकिन फिर उन्हें भी आदत पड़ गई. रही बात बच्चों…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
मुझे तो बस मां चाहिए, मेरे लिए – और बच्चों के लिए भी…

मुझे तो बस मां चाहिए, मेरे लिए – और बच्चों के लिए भी…

उस दिन तो हद ही हो गई जब बहू ठान कर बैठ गई कि जब तक तेतरी को घर से खदेड़ा नहीं जाता वो पानी भी नहीं पीयेगी. मोहल्ले के लोगों को ये सुन कर बड़ा ताज्जुब हुआ कि कैसे…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
वो ट्यूशन वाला लड़का!

वो ट्यूशन वाला लड़का!

मैं इंटर के फाइनल ईयर में थी. रही बात मेरे स्वभाव की बात तो मैं यह तो नहीं कहूंगी कि बहुत सीधी हूं. वैसे इसका मतलब यह भी नहीं कि बिलकुल तूफान मेल हूं. हां, चंचलता के साथ संजीदगी की…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
भाभी जी, हम हैं ना……….

भाभी जी, हम हैं ना……….

अब तक मुझे समझ में आ चुका था कि बच्चे के भाभी पर जाने का क्या मतलब है. फिर मैंने पत्नी से कहा कि भैया की बगल में जाकर देखें वहां से साफ दिखाई दे रहा है. उन्होंने समझाना चाहा…

...पूरी कहानी पढ़ने के लिए यहां टैप करें
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: